सबका मंगल सबका भला हो ! गुरु चाहना ऐसी है !!इसीलिए तो आए धरा पर सदगुरु आसारामजी है !!
स्नातं तेन सर्व तीर्थम् दातं तेन सर्व दानम् कृतो तेन सर्व यज्ञो.....उसने सर्व तीर्थों में स्नान कर लिया, उसने सर्व दान दे दिये, उसने सब यज्ञ कर लिये जिसने एक क्षण भी अपने मन को आत्म-विचार में, ब्रह्मविचार में स्थिर किया।

Tuesday, November 30, 2010

भगवान सूर्य किस देवता का ध्यान एवं पूजन करते हैं?

ब्रह्माजी बोले - याज्ञवल्क्य! एक बार मैंने भगवान सूर्यनारायण की स्तुति की । उस स्तुति से प्रसन्न होकर वे प्रत्यक्ष प्रकट हुए, तब मैंने उनसे पूछा कि महाराज ! वेद-वेदांगों में और पुराणों में आपका ही प्रतिपादन हुआ है। आप शाश्वत अज, तथा परब्रह्म स्वरूप है । यह जगत आप में ही स्थित है। गृहस्थाश्रम जिनका मूल है, ऐसे वे चारों आश्रमों वाले रात-दिन आपकी अनेक मूर्तियों का पूजन करते है। आप ही सबके माता-पिता और पूज्य है। आप किस देवता का ध्यान एवं पूजन करते है? मैं इसे समझ नहीं पा रहा हूँ, इसे मैं सुनना चाहता हूँ, मेरे मन में बड़ा कौतूहल है ।

भगवान सूर्य ने कहा - ब्राह्मन ! यह अत्यंत गुप्त बात है, किन्तु आप मेरे परम भक्त है, इसलिए मैं इसका यथावत वर्णन कर रहा हूँ- वे परमात्मा सभी प्राणियों में व्याप्त, अचल, नित्य, सूक्ष्म तथा इंद्रियातीत है, उन्हे क्षेत्रज्ञ, पुरुष, हिरण्यगर्भ, महान, प्रधान तथा बुद्धि आदि अनेक नामों से अभिहित किया जाता है। जो तीनों लोकों के एकमात्र आधार है, वे निर्गुण होकर भी अपनी इच्छा से सगुण हो जाते है, सबके साक्षी है, स्वत: कोई कर्म नहीं करते और न तो कर्मफल की प्राप्ति से संलिप्त रहते है। वे परमात्मा सब ओर सिर, नेत्र, हाथ, पैर, नासिका, कान तथा मुख वाले है, वे समस्त जगत को आच्छादित करके अवस्थित है तथा सभी प्राणियों में स्वच्छंद होकर आनंदपूर्वक विचरण करते है।

शुभाशुभ कर्म रूप बीजवाला शरीर क्षेत्र कहलाता है। इसे जानने के कारण परमात्मा क्षेत्रज्ञ कहलाते है। वे अव्यक्तपुर में शयन करने से पुरुष, बहुत रूप धारण करने से विश्वरूप और धारण-पोषण करने के कारण महापुरुष कहे जाते है। ये ही अनेक रूप धारण करते है। जिस प्रकार एक ही वायु शरीर में प्राण-अपान आदि अनेक रूप धारण किए हुए है और जैसे एक ही अग्नि अनेक स्थान-भेदों के कारण अनेक नामों से अभिहित की जाती है, उसी प्रकार परमात्मा भी अनेक भेदों के कारण बहुत रूप धारण करते है। जिस प्रकार एक दीप से हजारों दीप प्रज्वलित हो जाते है, उसी प्रकार एक परमात्मा से संपूर्ण जगत उत्पन्न होता है। जब वह अपनी इच्छा से संसार का संहार करता है, तब फिर एकाकी ही रह जाता है। परमात्मा को छोडकर जगत में कोई स्थावर या जंगम पदार्थ नित्या नहीं है, क्योंकि वे अक्षय, अप्रमेय और सर्वज्ञ कहे जाते है। उनसे बढ़कर कोई अन्य नहीं है, वे ही पिता है, वे ही प्रजापति है, सभी देवता और असुर आदि उन परमात्मा भास्करदेव की आराधना करते है और वे उन्हे सद्गति प्रदान करते है। ये सर्वगत होते हुए भी निर्गुण है। उसी आत्मस्वरूप परमेश्वर का मैं ध्यान करता हूँ तथा सूर्यरूप अपने आत्मा का ही पूजन करता हूँ। हे याज्ञवल्क्य मुने ! भगवान सूर्य ने स्वयं ही ये बातें मुझसे कही थी । (भविष्य पुराण - ब्राह्मपर्व , अध्याय 66-67)

8 comments:

  1. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    संस्‍कृत की सेवा में हमारा साथ देने के लिये आप सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतम्-भारतस्‍य जीवनम् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग जगत में आपका स्वागत है, आपका आगमन बगिया में सुवासित अलग-अलग फूलों के समान ब्लॉग जगत को महकायेगा, इसी आशा के साथ....
    रामदास सोनी

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर...
    चन्दर मेहेर
    lifemazedar.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. लेखन के मार्फ़त नव सृजन के लिये बढ़ाई और शुभकामनाएँ!
    -----------------------------------------
    जो ब्लॉगर अपने अपने ब्लॉग पर पाठकों की टिप्पणियां चाहते हैं, वे वर्ड वेरीफिकेशन हटा देते हैं!
    रास्ता सरल है :-
    सबसे पहले साइन इन करें, फिर सीधे (राईट) हाथ पर ऊपर कौने में डिजाइन पर क्लिक करें. फिर सेटिंग पर क्लिक करें. इसके बाद नीचे की लाइन में कमेंट्स पर क्लिक करें. अब नीचे जाकर देखें :
    Show word verification for comments? Yes NO
    अब इसमें नो पर क्लिक कर दें.
    वर्ड वेरीफिकेशन हट गया!
    ----------------------

    आलेख-"संगठित जनता की एकजुट ताकत
    के आगे झुकना सत्ता की मजबूरी!"
    का अंश.........."या तो हम अत्याचारियों के जुल्म और मनमानी को सहते रहें या समाज के सभी अच्छे, सच्चे, देशभक्त, ईमानदार और न्यायप्रिय-सरकारी कर्मचारी, अफसर तथा आम लोग एकजुट होकर एक-दूसरे की ढाल बन जायें।"
    पूरा पढ़ने के लिए :-
    http://baasvoice.blogspot.com/2010/11/blog-post_29.html

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  6. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  7. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप, आपके परिवार तथा इष्टमित्रो को होली की हार्दिक शुभकामना. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete